कोरोना संकट के बीच देश में नया रिकॉर्ड, अक्‍टूबर में हुए 200 करोड़ के यूपीआई ट्रांजेक्शन


एनपीसीआई के मुताबिक, अक्‍टूबर 2020 के दौरान देश में 207.16 करोड़ रुपये मूल्‍य के ट्रांजैक्‍शन हुए


नई दिल्‍ली। कोरोना संकट के बीच लोगों ने घर बैठे-बैठे नया रिकॉर्ड बना डाला है। दरअसल, अक्‍टूबर 2020 के दौरान देशभर में यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस आधारित लेनदेन के मामले में देश ने एक महीने में 200 करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर लिया है। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अब तक कुल 3.3 लाख करोड़ रुपये के यूपीआई ट्रांजैक्‍शन हो चुके हैं। यूपीआई प्‍लेटफॉर्म से 189 बैंक जुड़े हुए हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, इस प्‍लेटफॉर्म के जरिये सितंबर 2020 के अंत तक 3.29 लाख करोड़ रुपये मूल्‍य के कुल 180 करोड़ लेनदेन हो चुके हैं।
एनपीसीआई के मुताबिक, अक्‍टूबर 2020 के दौरान देश में 207.16 करोड़ रुपये मूल्‍य के यूपीआई ट्रांजैक्‍शन हुए। पिछले कुछ साल में भीम यूपीआई ने व्‍यक्ति से व्‍यक्ति और व्‍यक्ति से कारोबारी के बीच पैसों के लेनदेन का तरीका बदल दिया है। एनपीसीआई ने कहा कि इसकी सफलता के पीछे सबसे बड़ा कारण सुरक्षित लेनदेन रहा है। पिछले साल अक्‍टूबर में यूपीआई ट्रांजैक्‍शन के जरिये रिकॉर्ड 114.83 करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ था। हर महीने स्‍मार्टफोन आधारित डिजिटल पेमेंट्स प्‍लेटफॉर्म का इस्‍तेमाल करने वालों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। यूपीआई को 2017 में लॉन्‍च किया गया था। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ने बताया कि अप्रैल-मई में यूपीआई यूजर्स की संख्‍या में मामूली वृद्धि हुई, लेकिन इसके बाद जून से काफी तेजी से यूजर्स की संख्‍या और ट्रांजैक्‍शन की तादाद में बढ़ोतरी हुई। इससे महज 6 महीने के भीतर यूपीआई ट्रांजेक्‍शंस के जरिये दोगुनी राशि का लेनदेन हुआ। लॉकडाउन के दौरान अप्रैल 2020 में 99.95 लाख रुपये के यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस हुए। इसके बाद अक्‍टूबर में यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस के जरिये 207 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का लेनदेन हुआ। एनपीसीआई की शुरुआत 2008 में हुई थी। ये रिटेल पेमेंट्स और देश में सेटलमेंट सिस्‍टम्‍स की मुख्‍य संस्‍था है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *