क्रिकेट-हॉकी में भी मिलेगी डिग्री

दिल्ली में 90 एकड़ में बनेगी स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी बनाने की घोषणा करते हुए कहा कि देश में पहली बार दिल्ली में खेलों की डिग्री मिलेगी। इस यूनिवर्सिटी से स्कूल से लेकर पीएचडी तक की डिग्री दी जाएगी। मुंडका में 90 एकड़ में बनने वाली इस यूनिवर्सिटी के बनने के बाद दिल्ली में अच्छे खिलाडिय़ों को प्रतिभा दिखाने के बेहतर मौके मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तक देश के खिलाड़ी चाहे किसी खेल में कुछ भी हासिल कर लें लेकिन डिग्री के लिए उन्हें अलग से पढ़ाई करनी पड़ती है। ऐसा ना करने पर उन्हें नौकरी के लिए आवेदन करने में समस्या होती है। लेकिन अब खिलाडिय़ों को किसी और डिग्री की जरूरत नहीं होगी। उन्हें खेल की परफॉर्मेंस के आधार पर ही डिग्री मिल जाएगी। खेल में भविष्य बनाने वाले युवा भी अब सिविल सेवा व दूसरी परीक्षा दे पाएंगे। यूनिवर्सिटी में जितने भी कोर्स होंगे, उनके लिए विशेषज्ञों की टीम होगी, जो कोर्स स्ट्रक्चर तैयार करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बड़ी-बड़ी खेल प्रतियोगिता में पुरस्कार पाकर भी खिलाड़ी दसवीं, बारहवीं या ग्रैजुएट की डिग्री नहीं ले पाते थे। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दो होनहार खिलाड़ी थाइलैंड से पदक जीतकर उनसे मिलने आई। दोनों ने बताया कि वह ओपन से ग्रैजुएशन कर रही हैं। ऐसा न करने पर नौकरी नहीं मिलेगी। एक खिलाड़ी टेबल टेनिस में राष्ट्रीय पदक जीतकर मिला था, लेकिन उसने बताया कि डिग्री न होने के कारण वह कोई प्रतियोगिता परीक्षा नहीं दे सकता है। अब ऐसे सभी खिलाडिय़ों की सभी समस्याओं का हल स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी में होगा।
स्कूल से ही ले सकेंगे दाखिला
मुख्यमंत्री ने बताया कि इस यूनिवर्सिटी के तहत स्कूल भी खुलेंगे। जहां उन बच्चों को दाखिला मिलेगा, जिन्हें खेल में करियर बनाना है। दिल्ली स्पोर्ट्स स्कूल में खिलाडिय़ों को दाखिला दिया जाएगा। यह यूनिवर्सिटी की जिम्मेदारी होगी कि बच्चे को अंतरराष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी बनाया जाए। साथ ही डिग्री भी मिले। इन स्कूलों की सीबीएसई से संबद्धता होगी।
राज्य विश्वविद्यालय का दर्जा
दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी (डीएसयू) को स्टेट यूनिवर्सिटी के रूप में स्थापित किया जाएगा। यूनिवर्सिटी में ग्रैजुएशन, पोस्ट ग्रैजुएशन कोर्सेज और पीएचडी के कोर्स भी होंगे। यूनिवर्सिटी में सेंटर ऑफ प्रफेशनल एक्सीलेंस भी होगा। यहां पर छह यूनिवर्सिटी स्कूल होंगे, जिनमें ग्रैजुएशन, पोस्ट ग्रैजुएशन और रिसर्च के कोर्सेज होंगे। खिलाडिय़ों को वल्र्ड क्लास ट्रेनिंग दी जाएगी। हर यूनिवर्सिटी स्कूल में खेल में रिसर्च करने की सुविधा भी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *