Wed. Feb 23rd, 2022

अहमदाबाद| गुजरात हाईकोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायधीश कल्पेश झवेरी पर जूता फैंकने के आरोपी को डिस्ट्रीक्ट कोर्ट ने डेढ साल की सजा का आदेश दिया है| यह घटना 11 अप्रैल 2012 की है,जो उस वक्त हुई थी जब सुनवाई में विलंब से गुस्साए आरोपी ने मुख्य न्यायधीश पर जूता फैंका था| राजकोट के गोंडल निवासी भवानीदास मायाराम बावाजी चाय की दुकान चलाकर परिवार का जीवनयापन करता है| नगर पालिका ने जब भवानीदास को चाय की दुकान चलाने की मंजूरी नहीं मिली तो उसे गोंडल के सत्र न्यायालय में गुहार लगाई| सत्र न्यायालय ने भवानीदास के पक्ष में सुनवाई की और उसकी चाय की दुकान फिर शुरू हो गई| लेकिन नगर पालिका ने गुजरात हाईकोर्ट में सत्र न्यायालय के फैसले को चुनौती दी| हाईकोर्ट के नगर पालिका के पक्ष में फैसला देने से भवानीदास की दुकान फिर बंद हो गई| दुकान बंद होने से भवानीदास के लिए अपनी और परिवार की गुजर बसर करना मुश्किल हो गया| इतना ही भवानीदास भीख मांगकर या लोगों से उधार पैसे लेकर हाईकोर्ट के चक्कर लगाता| इन सब मुश्किलों के बीच मामले की सुनवाई नहीं हो रही थी| जिससे आवेश में आकर भवानीदास ने 11 अप्रैल 2012 को गुजरात हाईकोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायधीश और उडीसा के पूर्व मुख्य न्यायधीश कल्पेश झवेरी पर जूता फैंका था|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *