Sat. Feb 27th, 2021

विशेष संवाददाता

मामल्लपुरम । चेन्नई के नजदीक तटीय शहर मामल्लपुरम में प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच 11 और 12 अक्टूबर को दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता होने जा रही है। इसके सफलतापूर्वक आयोजन के लिए पूरे शहर की किलेबंदी की गई है। शहर की सजावट में लाल रंग का जमकर इस्तेमाल किया गया है। इसकी वजह यह है कि चीन का राष्ट्रीय ध्वज लाल रंग का है। शहर के पास तटरक्षक जहाज ने लंगर डाल दिया है। तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों से आए 5000 से अधिक पुलिसकर्मियों तैनाती की गई है। सुरक्षा के मद्देनजर दर्जनों अस्थायी पुलिस चौकियां बनाई गई हैं। शहर में 800 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं जिसके जरिये सड़कों और अन्य रास्तों की 24 घंटे निगरानी की जा रही है। मछुआरों को समुद्र से दूर रहने को कहा गया है। सादे कपड़ों में पुलिस के जवान निगरानी कर रहे हैं। एसपीजी और बम निरोधक दस्ते के जवान भी स्मारक सहित विभिन्न इलाकों की निगरानी कर रहे हैं। दो दर्जन के करीब खोजी श्वान तैनात किए गए हैं।मजबूत और स्थिर संबंधों पर हो सकती है बात।
अमेरिका के साथ चीन के कारोबारी संबंधों में बढ़ती दरार की पृष्ठभूमि में होने वाली इस बातचीत में भारत-चीन के द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने पर चर्चा होगी। हालांकि मुलाकात का एजेंडा नहीं तय है लेकिन दोनों नेता व्यापार और कारोबारी संबंधों के विस्तार के तरीकों पर भी बात कर सकते हैं। इस दौरान राजनीतिक संबंधों, व्यापार एवं करीब 3500 किलोमीटर लंबी चीन-भारत सीमा पर समन्वय पर भी चर्चा हो सकती है। बातचीत का प्रमुख पहलू यह होगा कि दोनों देश मतभेदों को दूर कैसे करेंगे और संबंधों के उतार-चढ़ाव कैसे स्थिरता में बदलेंगे। गौरतलब है कि मोदी-शी के बीच पहली अनौपचारिक शिखर वार्ता चीन के वुहान में 2018 में हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *