Tue. Mar 2nd, 2021

विशेष संवाददाता

नई दिल्ली । अंतराष्ट्रीय मंच पर एशियाई पार्ल्यामेंट्री असेंबली (एपीए) की बैठक में जब पकिस्तान ने अपनी आंतरिक स्थिति को कश्मीर से जोड़ना चाहा तो ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने पाकिस्तान की जमकर खिंचाई की। उन्होंने कहा, ‘जम्मू और कश्मीर भारतीय संघ का अभिन्न अंग है। जम्मू-कश्मीर में इस प्रकार के हालात नहीं हैं जिनसे इस्लामाबाद तो छोड़ दें, उनके देश में (पाकिस्तान में) कहीं पर भी आम जनजीवन या कामकाज की स्थिति पर कोई फर्क पड़े।’
दरअसल सर्बिया की राजधानी बेलग्रेड में एपीए मीटिंग का आयोजन किया गया है जहां पाकिस्तान ने कहा कि वह जम्मू-कश्मीर में ताजा हालात के मद्देनजर इस मीटिंग का आयोजन अपने यहां नहीं करवा सकता है। थरूर ने पाकिस्तान के इस पैंतरे से पर्दा उठाते हुए कहा कि वह भारत के आंतरिक मामले का हवाला देकर इस मंच के राजनीतिकरण की कोशिश कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी संसद के ऊपरी सदन सीनेट के चेयरमैन ने एक पत्र के जरिए इस फोरम को बताया कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर के ताजा हालात के कारण दिसंबर 2019 में पूर्वनिर्धारित मीटिंग का आयोजन नहीं कर पाएगा। थरूर ने अपने संबोधन में पाकिस्तान के इस पत्र की कड़ी निंदा की।
थरूर ने पाकिस्तानी सीनेट के चेयरमैन को निशाने पर लेते हुए कहा कि उन्होंने भारत के आंतरिक मामले का हवाला ‘एपीए के गैर-जरूरी राजनीतिकरण’ के लिए दिया।यूपीए सरकार में विदेश राज्य मंत्री रहे थरूर ने कहा, ‘भारत के आंतरिक मामलों का असर सीमाओं पर नहीं होता है और न ही हम अपने पड़ोसियों को छेड़ते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘इन हालात में वह (पाकिस्तानी सीनेट के चेयरमैन) उम्मीद करते हैं कि यह प्रतिष्ठित सभा दिसंबर 2019 में अपनी मीटिंग आयोजित करने की पाकिस्तान की अक्षमता अथवा अनिच्छा के पीछे उसकी ऐसी बहानेबाजी को स्वीकार कर ले। यह वाकई दुर्भाग्यपूर्ण और विचित्र है।’
ज्ञात रहे कि जम्मू-कश्मीर को प्रभावी आर्टिकल 370 को निष्प्रभावी बनाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान हर जगह इसका रोना रो रहा है। यह अगल बात है कि उसे संयुक्त राष्ट्र से लेकर महत्वपूर्ण मुस्लिम देशों तक से इस मुद्दे पर मुंह की खानी पड़ी है, लेकिन वह अपनी हरकतों से बिल्कुल बाज नहीं आ रहा। इसी क्रम में उसने एशियन पार्ल्यामेंट्री असेंबली में भी यह पैंतरा चला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *