Tue. Mar 2nd, 2021

 विशेष संवाददाता 

नई दिल्ली । दुनिया के खूबसूरत और फैशन का मक्का कहे जाने वाले शहर पेरिस में छह दिवसीय फाइनेंशियल एक्शन टॉस्क फोर्स (एफएटीएफ) की पूर्ण बैठक में पाकिस्तान को लेकर चीन के रुख पर सबकी नजर होगी। यह बैठक ऐसे समय में हो रही है जब वीकेंड पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग की दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता हुई है। रविवार से शुरू एफएटीएफ की बैठक से पहले मामल्लपुरम शिखर वार्ता में चिनपिंग अंतरराष्ट्रीय समुदाय की तरफ से बिना किसी भेदभाव के आतंकी समूहों को ट्रेनिंग, फाइनैंसिंग और सहयोग के खिलाफ एफएटीएफ को मजबूत बनाने के लिए मिलकर काम करने की अहमियत पर जोर देते दिखे। एफएटीएफ की अध्यक्षता फिलहाल चीन के पास है, जिसे पाकिस्तान के मित्र देश के रूप में देखा जाता है। सूत्रों ने कहा कि चिनफिंग और मोदी के बीच अनौपचारिक शिखर वार्ता के टेरर फाइनैंसिंग पर केंद्रित होने के बाद अब सबकी निगाहें चीन पर होंगी। चीन के शियांगमिन लिउ ने इसी साल की शुरुआत में अमेरिका के मार्शल बिलिंगस्ली से एफएटीएफ प्रेजिडेंट का पदभार ग्रहण किया था।
मामल्लपुरम में दो-दिवसीय वार्ता के अंत में मीडिया से बात करते हुए विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा, ‘दोनों नेताओं में इस बात पर सहमति बनी है कि तेजी से जटिल होती दुनिया में आतंकवाद और कट्टरपंथ की चुनौतियों से निपटना काफी अहम है। दोनों ऐसे देशों के नेता हैं, जो क्षेत्रफल या आबादी के मामले में नहीं, बल्कि विविधता के मामले में भी बड़े हैं।’ जून में हुई एफएटीएफ बैठक में पाकिस्तान ने ब्लैकलिस्ट होने से बचने के लिए जरूरी तीन वोट चीन, तुर्की और मलयेशिया से हासिल किए थे। हालांकि, टेरर फंडिंग को लेकर एफएटीएफ की एशिया पैसेफिक ग्रुप की ओर से जारी हालिया रिपोर्ट में पाकिस्तान का प्रदर्शन बेहद खराब था। अधिकारियों ने ईटी को बताया कि इससे एफएटीएफ की पूर्ण बैठक में भारत का केस मजबूत हुआ है।
मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर बने एशिया पैसेफिक ग्रुप (एपीजी) ने हाल ही में पाकिस्तान में मनी-लॉन्ड्रिंग और टेरर-फंडिंग को लेकर अपनी रिपोर्ट सार्वजनिक की थी। एफएटीएफ-एपीजी रिपोर्ट में ‘इफेक्टिवनेस एंड टेक्निकल कंप्लायंस रेटिंग्स’ के 10 और ‘टेक्निकल कंप्लायंस रेटिंग्स’ के 40 मापदंड थे। 10 इफेक्टिनेस रेटिंग्स में से 9 में पाकिस्तान का प्रदर्शन ‘कम’ और एक में ‘सामान्य’ पाया गया। वहीं, टेक्निकल कंप्लायंस के मापदंड पर पाकिस्तान को सिर्फ 1 में ‘पालन करने वाला’ पाया गया, जबकि 26 में ‘थोड़ा पालन करनेवाला’, 9 में ‘काफी हद तक पालन करने वाला’ और 4 में ‘कुछ भी नहीं पालन करनेवाला’ पाया गया। पाकिस्तान के प्रदर्शन को देखने के लिए 228 पन्नों की रिपोर्ट अहम पैमाना होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *