Corona Effect: 400 साल के इतिहास में पहली बार भक्तों के लिए बंद हुआ प्रसिद्ध रजरप्पा मंदिर

रामगढ़. कोरोना के खतरे को देखते हुए रजरप्पा स्थित मां छिन्नमस्तिका मंदिर को 20 मार्च से 14 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया गया है. उपायुक्त संदीप सिंह की अध्यक्षता में हुई मन्दिर न्यास समिति की बैठक में ये फैसला लिया गया. अब श्रद्धालु 14 अप्रैल तक मंदिर में पूजा-पाठ नहीं कर पाएंगे. हालांकि मंदिर समिति विधिवत तरीके से प्रत्येक दिन मंदिर में पूजा-आरती जारी रखेगी. रजरप्पा मंदिर के चार सौ साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि इसे आम श्रद्धालुओं के लिए बंद किया गया है.

भक्तों को सूचना देने के लिए लगाये जाएंगे पोस्टर

बैठक में डीसी संदीप सिंह, एसडीओ अनंत कुमार, चितरपुर बीडीओ, छिन्नमस्तिका मंदिर न्यास समिति के अध्यक्ष अशेष पंडा, सचिव शुभाशीष पांडा के अलावे असीम पंडा, लोकेश पंडा सहित कई दुकानदार मौजूद थे. वहीं, आम श्रद्धालुओं तक बंद की सूचना पहुंचाने के लिए गोला-चितरपुर व चितरपुर ओवरब्रिज और रामगढ़ शहर में बैनर पोस्टर लगाने का निर्णय लिया गया है.

इस आदेश के बाद मंदिर परिसर में स्थित ज्यादातर दुकानदारों ने भी अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद रखने का निर्णय लिया है. जिला प्रशासन के आदेश का पालन कराने के लिए इंस्पेक्टर स्तर के पदाधिकारी के साथ पुलिस के जवानों को परिसर में तैनात किये जाएंगे.

पहले विदेशी नागरिकों के प्रवेश पर लगी थी रोक

इससे पहले जिला प्रशासन ने रजरप्पा मंदिर में विदेशी नागरिकों के प्रवेश पर रोक लगाई थी. जिले के डीसी संदीप सिंह ने ट्वीट कर कहा कि कोरोना के संभावित खतरे को देखते हुए रजरप्पा समेत जिले के सभी मंदिर, चर्च और गुरुद्वारा में विदेशी नागरिकों के प्रवेश पर रोक है. बता दें कोरोना के खौफ के चलते हाल के दिनों में रजरप्पा पहुंचने वाले भक्तों की संख्या में लगातार कमी आ रही थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *