SAARC देशों की कॉन्फ्रेंस में PAK के कश्मीर मुद्दा उठाने पर भारत ने कहा- पाकिस्तान ने मंच का दुरुपयोग किया

संवाददाता

नई दिल्ली. देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर विदेश मंत्रालय ने अपनी साप्ताहिक प्रेस वार्ता में कोविड-19 से जुड़ी शंकाओं का समाधान किया और सवालों का जवाब दिया. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि सार्क देशों के नेताओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कांफ्रेंस के दौरान हुई घोषणाओं के प्रस्तावों पर हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि आपातकालीन फंड काफी है और बढ़ रहा है. हमें अन्य सार्क देशों से मास्क, गलव्स आदि के रूप में कई अनुरोध प्राप्त हुए हैं.

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए पीएम द्वारा प्रस्तावित आपातकालीन सार्क फंड को सदस्य देशों से सहायता के लिए अनुरोध प्राप्त हुए हैं. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि सार्क देशों से बात करके बनाए गए फंड में 1 मिलियन डॉलर जमा हो गए हैं. मालदीव और नेपाल की जो मांगें थीं उन्हें पूरा कर दिया गया है.

सरकार ने जारी किया टोल फ्री नंबर
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि कोरोना वायरस के संबंध में जानकारी प्राप्त करने के लिए सरकरा ने एक टोल फ्री नंबर 1800118797 जारी किया है. इसके साथ ही 3 लैंडलाइन नंबर, एक ईमेल आईडी और एक फैक्स नंबर भी जारी किया गया है. विदेश मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव और को-ऑर्डिनेटर दामू रवि ने कहा मंत्रालय कोविद नियंत्रण कक्ष को मजबूत कर रहा है. अभी 25-30 लोग कंट्रोल रूम में काम कर रहे हैं. वे शिफ्ट में काम करते हैं. हमें एक दिन में लगभग 400 ई-मेल और 1000 कॉल मिल रहे हैं.

पाकिस्तान ने किया मंच का दुरुपयोग
सार्क कॉन्फ्रेंस में कश्मीर को लेकर की गई पाकिस्तान की टिप्पणी पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि इस तरह के संकट में सीमाओं को नहीं पहचानते हैं. इस भावना के साथ, पीएम ने कोरोनोवायरस पर SAARC वीडियो कॉन्फ्रेंस रखी थी.

SAARC देशों की कोरोना वायरस पर हुई कांफ्रेंस में पाकिस्तान के कश्मीर का मुद्दा उठाने पर रवीश कुमार ने कहा कि सार्क का मंच इस महामारी को संबोधित करने के लिए था. यह एक मानवीय मंच था जिसका पाकिस्तान ने दुरुपयोग किया.

विदेश में फंसे भारतीयों को लाने की हो रही कोशिश
वहीं विदेश में फंसे भारतीयो की जानकारी देते हुए दामू रवि ने कहा हम इस सप्ताह के अंत में इटली से भारतीयों के अगले बैच को निकालने की योजना बना रहे हैं, नागरिक उड्डयन मंत्रालय के साथ आगे की जानकारियों पर काम किया जा रहा है. रवि ने कहा हमने ईरान में कोरोना वायरस से संक्रमित भारतीयों को अलग कर दिया है और उनकी देखभाल की जा रही है. हमें पूरा विश्वास है कि वे ठीक हो जाएंगे और हम उन्हें वापस लाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *