Fri. Apr 23rd, 2021

नई दिल्ली । पानी की समस्या को लेकर सामाजिक संस्था उम्मीद-ए ड्रॉप ऑफ होप के 3 सदस्य विनय ठाकुर, शुभ्रजीत गौतम और इन्द्रदेव सिंह बुधवार से आमरण अनशन पर बैठ थे और बाकि के सात लोग उनके साथ धरने पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के घर के बाहर बैठे थे। लेकिन मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अन्य राज्यों में पार्टी विस्तार के लिए गूरूग्राम में आयोजित रैली को महत्व देते हुये वहां चले गए लेकिन पानी के लिए अनशन पर बैठे इन लोगों से मिलने नहीं आये।
उम्मीद के संस्थापक शुभ्रजीत गौतम का कहना है कि वर्षों से इस क्षेत्र के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। आलम यह है कि करीब 8 लाख की आबादी के बावजूद अब तक लोगों के घरों में पानी की आपूर्ति के लिए टेंकर पर निर्भर है और 15 दिन का पानी स्टोर करके वह अपना काम बाकि के 15 दिन अपने द्वारा इस्तेमाल गन्दे पानी से करते है जो कि स्वच्छता और स्वास्थय के लिए बेहद खतरनाक है।
दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल के साढ़े तीन वर्ष के शासन के बाद भी दिल्ली में पानी को लेकर हत्याएं हो रही है और लोगों को पानी जैसी मूलभूत सुविधा के लिए आमरण अनशन पर बैठना पड़ रहा है। दिल्ली में पानी को लेकर खूनी संघर्ष जारी है, मार्च 2018 में वजीरपुर में 60 साल के एक बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई, जून, 2018 में संगम विहार में ही पानी को लेकर हुए विवाद में गोलियां चली, जुलाई, 2018 में वजीरपुर में चाकू से गोद कर पानी की कहा-सूनी पर युवक की हत्या कर दी गई इतनी हत्याओं के बावजूद दिल्ली के मुख्यमंत्री पानी की समस्या को लेकर गम्भीर नहीं है। श्री तिवारी ने कहा कि मेरा केवल यह प्रश्न है कि मुख्यमंत्री को इन आठ लाख लोगों ने बहुमत देकर विधानसभा तक पहुंचा कर अपना मुखिया चुना है तो फिर क्यों संगम विहार की प्यासी जनता की तरफ मुख्यमंत्री की नजर नहीं पड़ती, क्यों वह बाकि पड़ोसी राज्यों में अपने राजनैतिक विस्तार में व्यस्त है। दिल्ली की जनता ने आपको दिल्ली के कार्य करने के लिए चुना है आप वह कार्य तो बखूबी कर नहीं कर पा रहे। इसके अलावा दिल्ली की जनता के टैक्स द्वारा वसूली गई गाढ़ी कमाई को आप अन्य राज्यों में विस्तार में लगा रहे हैं। इसका अधिकार आपको किसने दिया दिल्ली की जनता जानना चाहती है। श्री तिवारी ने कहा कि अनशन से जन्मी पार्टी अनशन करने वालों की क्यों नहीं सुनती, क्या मुख्यमंत्री इतने संवेदनहीन हो चले है कि उन्हें संगम विहार के लोगों का दर्द समझ नहीं आता, पानी के टैंकर पर मेरी माताओं-बहनों को पानी भरने के लिए घंटो खड़ा रहना पड़ता है, क्या मुख्यमंत्री इनका वह बहुमुल्य समय लौटा सकते है, नहीं तो बंद करें तुष्टिकरण की राजनीति और दिल्ली की जनता के जनहित में कार्य करें। अब तो चार साल का आपका शासन बीत चुका है क्या आप अब भी इन्हे आश्वासन देंगे। तिवारी ने कहा कि पानी खरीदकर भी लोगों की जरूरतें नहीं पूरी हो रही है। टैंकर के जरिये पानी की आपूर्ति में दिल्ली सरकार द्वारा ढूलमूल रवैया आश्चर्यचकित करने वाला है। सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक, संगम विहार में आपूर्ति होने वाले पानी में फ्लोराइड और लेड की मात्रा सामान्य से अधिक है। दिल्ली भाजपा यह मांग करती है कि मुख्यमंत्री संगम विहार के लोगों की समस्या को गंभीरता से लेते हुए सभी घरों तक पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करवाएं ताकि उन्हें राहत मिल सके। आज आमरण अनशन पर बैठे सदस्यों की हालत जब गम्भीर हो गई तब उन्हे अरूणा असफ अली अस्पताल, सिविल लाईन्स में भर्ती कराया गया। जहां दिल्ली भाजपा की पूर्व महापौर डाॅ. प्रीति अग्रवाल और निगम पार्षद श्री अवतार सिंह ने उन्हे जूस पीलाकर उनके स्वास्थ्य की गम्भीरता को देखते हुये अनशन तुड़वाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *