Tue. Apr 13th, 2021

विशेष प्रतिनिधि

नई दिल्ली | हरियाणा में सभी दावों को झुठलाते हुए कांग्रेस राज्य में बीजेपी सरकार को कड़ी टक्कर दे रही है. ऐसा लग रहा है कि राज्य में मनोहर लाल खट्टर सरकार के कामकाज से आम जनता खुश नहीं है और बीजेपी के लिए अनुच्छेद 370 को भुनाना जनता को ज्यादा रास नहीं आ रहा है. पूरे पांच साल बेरोजगारी, महिलाओं के खिलाफ क्राइम और आर्थिक मंदी का असर बीजेपी के खिलाफ जाता दिखाई दे रहा है. हालांकि बीजेपी 40 से ज्यादा सीटों पर आगे है और वह उसकी सीटें बहुमत के आसपास रह सकती हैं. लेकिन कांग्रेस भी बीजेपी से 10 सीटों से ही पीछे है और उसे 14 सीटों का फायदा होता दिखाई दे रहा है. अगर वह बीजेपी से सीटों का अंतर घटाती है तो वह दुष्यंत चौटाला के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिश कर सकती है.हालांकि अभी हरियाणा में तस्वीर साफ होने थोड़ा वक्त लगेगा. लेकिन यह विश्लेषण के लिए है कि हरियाणा जैसे राज्य जहां बहुत बड़ी संख्या में सेना और सुरक्षाबल में काम करते हैं, क्या उन पर भी जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का बहुत ज्यादा असर नहीं हुआ है और इसी के दम पर बीजेपी दावा कर रही थी कि उसे राज्य में 75 सीटें ज्यादा मिलेंगी|अब भी ऐसा लग रहा है कि राज्य में अन्य जिनको 10 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं और जिसमें दुष्यंत चौटाला की पार्टी भी शामिल है, राज्य में सरकार बनाने में अहम भूमिका निभा सकते हैं. जातिगत समीकरणों के हिसाब से देखें तो राज्य में जाट वोटबैंक कांग्रेस को मिलता दिखाई दे रहा है. कुल मिलाकर बीते 30-35 दिनों में कांग्रेस को लोकल नेताओं ने जमीन पर जमकर मेहनत की है. और यह बीजेपी के लिए एक तरह से सबक है और झटका है|

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *