Sun. Feb 28th, 2021

विशेष प्रतिनिधि

मुंबई । शिवसेना ने महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी खींचतान के बीच बारिश प्रभावित किसानों को दरकिनार नहीं किया जाना चाहिए। इसके साथ ही पार्टी ने सोमवार को किसानों को लगभग 30,000 करोड़ रुपये का राहत पैकेज प्रदान किए जाने की मांग की। अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में कहा कि किसानों को किसी भी कीमत पर बचाए जाने की जरूरत है। शिवसेना ने बेमौसम बारिश के कारण नष्ट हुई फसलों के लिए राज्य सरकार द्वारा घोषित 10,000 करोड़ की सहायता को अपर्याप्त बताया। संपादकीय में कहा कि देश पहले ही आर्थिक नरमी का सामना कर रहा है जिसके परिणामस्वरूप लाखों लोग बेरोजगार हुए हैं, इसके बाद जो खेती पर निर्भर हैं वे बेमौसम बारिश की मार झेल रहे हैं। शिवसेना का यह बयान उस समय में आया है जब राज्य में सरकार गठन को लेकर सहयोगी दल भाजपा के साथ उसकी खींचतान जारी है।
सामना की संपादकीय में कहा गया है कि सरकार की प्राथमिकता किसानों की मदद करना होना चाहिए। किसानों को किसी भी कीमत पर बचाने की जरूरत है। किसानों को 25,000 करोड़ से लेकर 30,000 करोड़ तक की मदद मुहैया हो। प्राथमिक आकलन के अनुसार राज्य के 325 तालुकाओं में 54.22 लाख हेक्टेयर फसल नष्ट हुई है। अरब सागर में चक्रवात के कारण राज्य को बेमौसम बारिश का सामना करना पड़ा था। राज्य में 24 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद से दोनों गठबंधन साझीदारों के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान जारी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *