Mon. Mar 1st, 2021

विशेष प्रतिनिधि

कोलकाता । चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ से पश्चिम बंगाल में अलग-अलग स्थानों पर सात लोगों की मौत हो गई। आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार तीव्र चक्रवात के कारण तेज हवाओं के साथ बारिश से सैकड़ों पेड़ उखड़ गए और उत्तर एवं दक्षिण 24 परगना व पूर्वी मिदनापुर जिलों में बिजली के तार टूट गए। इससे सिर्फ उत्तरी परगना में अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गई है।
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अगले सप्ताह उत्तर बंगाल की अपनी यात्रा रद्द करने का फैसला किया है। वे सोमवार को नामखाना और बक्खाली के आसपास प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगी। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बातचीत की और इस आपदा से निपटने के लिए राज्य को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया।
शनिवार को भी पूरे दिन कोलकाता में मूसलाधार बारिश होती रही जिससे लोग घरों के अंदर रहे। तटीय जिलों दक्षिण 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर और उत्तर 24 परगना जिले के आसपास के इलाकों में 165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चली। चक्रवात ने वहां शनिवार करीब मध्यरात्रि में दस्तक दी थी। सैकड़ों पेड़ों के उखड़ने से शहर के कई हिस्सों में सड़कें जाम रहीं, हालांकि मौसम में सुधार के बाद कई लोग रविवार को दोपहर में अपने-अपने घरों से निकले।
कोलकाता नगर निगम (केएमसी), पुलिस और दमकल कर्मियों के साथ एनडीआरएफ गिरे हुए पेड़ों और टहनियों के कारण जाम हुई सड़कों को साफ करने में जुटा है। राज्य आपदा प्रबंधन मंत्री जावेद खान ने कहा कि जड़ से उखड़ चुके पेड़ों को जल्द से जल्द हटाने के लिए सभी आपात सेवाएं काम कर रही हैं।
मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार सुंदरबन धानची वन के करीब पहुंचने से पहले बेहद गंभीर चक्रवात तूफान कमजोर होकर गंभीर चक्रवात में तब्दील हो गया। मौसम विभाग ने उत्तर एवं दक्षिण 24 परगना, पूर्वी मिदनापुर और नादिया जिलों में दोपहर साढ़े 12 बजे से अगले छह घंटे से अधिक समय तक मध्यम बारिश का पूर्वानुमान जताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *