Mon. Mar 1st, 2021

 विशेष संवाददाता  

नई दिल्ली । लोकसभा में नाथूराम गोडसे को लेकर बुधवार को की गई टिप्पणी पर आज बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को दोबारा माफी मांगनी पड़ी। इस बार उन्होंने एक वाक्य में कहा कि 27 नवंबर की अपनी टिप्पणी पर मुझे खेद है और मैं सदन से क्षमा चाहती हूं। प्रज्ञा दूसरी बार माफी मांगने के लिए खड़ी हुईं तो वह अपने पुराने रुख पर कायम दिखीं। प्रज्ञा ने बयान शुरू करते हुए कहा कि मैंने दुश्मनों के दिए बहुत अत्याचार सहे। इस पर स्पीकर ने उन्हें बीच में ही टोक दिया और माफी वाला बयान पढ़ने को कहा। प्रज्ञा ने इस पर विरोध जताते हुए कहा, ‘मुझे अपनी बात कहने दीजिए। पुरानी बात भी मेरी अधूरी रह गई। मैं जो कहना चाहती हूं वह तो सुनिए।’ स्पीकर ने उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी। इसके बाद प्रज्ञा को सीधे माफी वाला बयान पढ़ना पड़ा।
प्रज्ञा ने दूसरी बार के माफीनामे में कहा, ‘मैंने 27-11-2019 को एसपीजी बिल की चर्चा के दौरान नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा। नाम ही नहीं लिया, फिर भी किसी को ठेस पहुंचती हो तो मैं खेद प्रकट करते हुए क्षमा चाहती हूं।’ प्रज्ञा के दोबारा माफी मांगने पर लोकसभा की कार्यवाही सुचारू रूप से चलने लगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *