Wed. Mar 3rd, 2021

नर्द दिल्ली। संवाददाता
बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने 10 दिसंबर को विपक्षी दलों की होने वाली बैठक में शामिल होने का संकेत नहीं दिया है। यह बैठक चंद्रबाबू नायडू ने बुलाई है।
विपक्षी दलों में इस बात को लेकर चर्चा है कि क्या मायावती की पार्टी इस बैठक में शामिल होगी। आगामी 2019 लोकसभा चुनाव को देखते हुए 10 दिसंबर को होने वाली यह बैठक काफी अहम है। इस बैठक में समाजवादी पार्टी शिरकत कर रही है और खुद सपा ने इस बात की पुष्टि कर दी है, लेकिन अभी भी इस बात पर संशय बरकरार है कि क्या बसपा इस बैठक में शामिल होगी। 11 दिसंबर को पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होंगे, ऐसे में नतीजे घोषित होने के ठीक एक दिन पहले होने वाली यह बैठक काफी अहम मानी जा रही है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि हमें अभी तक मायावती की ओर से इस बैठक के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है कि क्या वह खुद या फिर उनकी पार्टी के प्रतिनिधि सतीश चंद्र मिश्रा इस बैठक में शामिल होंगे। हम उनसे मुलाकात करने की कोशिश करेंगे और इसको लेकर हम आशान्वित हैं, हम बेहतर की कल्पना कर रहे हैं। संसद भवन में बैठक जानकारी के अनुसार यह बैठक 10 दिसंबर को दोपहर 3.30 बजे संसद भवन की एनेक्सी में होगी। इस बैठक को लेकर विपक्षी दलों का कहना है कि अगर महागठबंधन के लिए होने वाली इस बैठक में बसपा शामिल नहीं होती है तो उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में इसका कोई खास असर नहीं पड़ेगा। विपक्ष इस महागठबंधन में मुख्य रूप से सपा, बसपा, कांग्रेस और अजीत सिंह की राष्ट्रीय लोक दल पर अपना ध्यान केंद्रित कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *