Fri. Apr 23rd, 2021

विशेष संवाददाता

मुंबई । महाराष्ट्र में कांग्रेस और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के साथ शिवसेना ने गठबंधन की सरकार बनाई है। गठबंधन का असर केंद्र की राजनीति में देखने को मिल रहा है। लोकसभा में जहां शिवसेना ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का साथ दिया, वहीं अब राज्यसभा में इसके पक्ष में वोटिंग न करने का फैसला किया है। माना जा रहा है कि शिवसेना कांग्रेस के दबाव में ऐसा कर रही है। इसी बीच शिवसेना के नेता एकनाथ शिंदे ने कहा है कि शिवसेना के पास अपनी विचारधारा है । नागरिकता संशोधन विधेयक पर जो भी शिवसेना फैसला करेगी, वह जनता के भले के लिए होगा । शिवसेना पर कांग्रेस का दबाव नहीं है ।
इससे पहले बीजेपी की पूर्व सहयोगी शिवसेना ने कहा था कि राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन करने को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि यह अटकलें पहले से ही लगाई जा रही थीं कि राज्यसभा में शिवसेना नागरिकता संशोधन विधेयक पर मोदी सरकार का साथ नहीं देगी। शिवसेना सांसद संजय राउत ने बुधवार को पहले कहा था कि नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर कुछ संदेह है और अगर इस पर सही जवाब नहीं मिला, तो शिवसेना विधेयक के खिलाफ जाएगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *