Mon. Mar 1st, 2021

विशेष संवाददाता

कानपुर। नैशनल गंगा काउंसिल की पहली बैठक में हिस्‍सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कानपुर के चंद्रशेखर आजाद यूनिवर्सिटी पहुंच गए हैं। यहां वह नमामि गंगे प्रदर्शनी का अवलोकन कर रहे हैं । इससे पहले कानपुर पहुंचने पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीएम मोदी का स्वागत किया। इस दौरान पार्टी के कुछ और पदाधिकारी भी मौजूद रहे। बता दें कि पीएम ‘नमामी गंगे’ परियोजना की समीक्षा करेंगे और गंगा पर इस योजना के प्रभाव देखने के लिए गंगा में नौकायन भी करेंगे। प्रधानमंत्री सीसामऊ नाले का सच भी देखेंगे।
नैशनल गंगा काउंसिल की बैठक में 10 केंद्रीय मंत्री, योगी आदित्‍यनाथ समेत 5 राज्‍यों के सीएम या उनके प्रतिनिधि समेत 30 सदस्‍य इस बैठक में शामिल हो रहे हैं। राम मंदिर मुद्दे के समाधान के बाद केंद्र सरकार के अजेंडे पर अब गंगा की सफाई का मुद्दा अब प्राथमिकता पर है, ऐसे में पीएम मोदी की यह यात्रा बेहद महत्‍वपूर्ण मानी जा रही है। गंगा काउंसिल की बैठक के बाद प्रधानमंत्री गंगा बैराज स्थित अटल घाट पहुंचेंगे। पीएम मोदी की यात्रा को लेकर कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। कड़े सुरक्षा इंतजामों के चलते सीएसएयू और गंगा बैराज के आसपास के गेस्ट हाउसों में एक दिन के लिए शादी समारोह आदि स्थगित कर दिए गए हैं। ट्रैफिक बंदिशों के चलते शहर के कई स्कूलों में छुट्टी का भी ऐलान किया गया है।
गंगा में गंदगी न दिखे, इसके लिए सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने पूरा दम लगा दिया है। टिहरी और नरौरा से छोड़े गए पानी के चलते गंगा बैराज पर भी शुक्रवार सुबह से कई गेट खोलकर डिस्चार्ज बढ़ा दिया गया। सूत्रों के मुताबिक, सुबह 8 बजे तक 14 हजार 228 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था। दोपहर 1 बजे यह मात्रा बढ़ाकर 16 हजार 702 क्यूसेक और शाम 8 बजे तक 17 हजार 733 क्यूसेक पानी रिलीज हो रहा था। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि नदियों में प्रदूषक तत्वों को डालने वाले सीवर और नालियों के बंद होने से नदी के जल में उल्लेखनीय परिवर्तन नजर आएगा। उन्होंने कहा, ‘सीसामऊ नाला, जो प्रतिदिन 140 मेगा लीटर गंदगी गंगा में डालता है, उसे अधिकारियों ने बंद करा दिया है। अब गंदगी को जाजमऊ और बिंगवान ट्रीटमेंट प्लांट की ओर मोड़ दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *