Mon. Mar 1st, 2021

विशेष प्रतिनिधि

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय सिटिजन रजिस्टर के विरोध में दिल्ली के राजघाट पर कांग्रेस का धरना-सत्याग्रह जारी है, यह रात आठ बजे तक चलेगा। धरने के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने संविधान की प्रस्तावना पढ़ी। इससे पहले कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा के बाद कुछ देर पहले ही राहुल गांधी भी पहुंचे हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, इस धरने में हरियाणा, यूपी और राजस्थान से बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और नेता पहुंच सकते हैं।
उनके साथ राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ और राज्यसभा सदस्य अहमद पटेल और गुलाम नबी आजाद समेत देश भर के कई दिग्गज नेता इस धरने में शामिल हैं। वहीं, दिल्ली के शाहीन बाग और जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के बाहर धरना सोमवार को भी जारी है। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में जामिया मिल्लिया इस्लामिया और शाहीन बाग में लोग लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। एक तरफ जामिया गेट पर रविवार को लगातार दसवें दिन भी नारेबाजी की गई तो वहीं, शाहीन बाग में प्रदर्शन के आठवें दिन प्रदर्शनकारियों की संख्या काफी कम रही।
जामिया के गेट संख्या-7 पर सीएए व एनआरसी के विरोध में प्रदर्शनकारी रविवार को भी जुटे रहे। प्रदर्शन में महिलाओं और बच्चों की संख्या ज्यादा रही। लोग दिल्ली पुलिस द्वारा जामिया में बर्बरता से किए गए लाठीचार्ज के खिलाफ भी बैनर और पोस्टर के जरिये विरोध जता रहे थे। यहां छात्रों ने सीएए के विरोध में हस्ताक्षर अभियान भी चलाया। उनका कहना है कि केंद्र सरकार संविधान की मूल भावना के साथ खिलवाड़ कर रही है। छात्र संविधान की प्रस्तावना लिखकर बैनर के आगे बैठ गए और सीएए के विरोध में नारेबाजी की। इस दौरान एक तरफ की सड़क को पूरी तरह बंद कर दिया गया था। एक ही लेन से दोनों तरफ के वाहनों को निकाला जा रहा है।वहीं, शाहीन बाग में आठवें दिन भी सीएए के खिलाफ धरना प्रदर्शन जारी रहा। हालांकि, धरना स्थल पर लोगों की भीड़ अन्य दिनों की अपेक्षा कम ही रही। इसके अलावा धरनास्थल पर खाना बांटने का काम भी बंद हो गया। बाग के मुख्य बाजार हाइटेंशन लाइन में बड़े प्रतिष्ठान सहित अधिकांश दुकानें भी खुलनी शुरू हो गईं। हालांकि, कालिंदी कुंज से सरिता विहार जाने वाली सड़क अभी भी बंद है। सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन कम हो जाने के बावजूद भी पुलिस पूरी तरह मुस्तैद रही। पुलिसकर्मी प्रदर्शन स्थल से कुछ दूरी पर तैनात रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *