Sun. Feb 28th, 2021

विशेष प्रतिनिधि

रायपुर । नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा है कि देश के अलग-अलग लोगों को साथ लिए बिना अर्थव्यवस्था नहीं चल सकती है। रायपुर में नैशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल का उद्घाटन करते हुए राहुल ने इशारों-इशारों में केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि भाई को भाई से अलग कर देश का फायदा नहीं किया जा सकता। इस दौरान राहुल ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लिया।
राहुल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हिंसा में कमी आई है क्योंकि यहां की सरकार लोगों की आवाज सुनती है। राहुल ने कहा कि विधानसभा में एक व्यक्ति की नहीं, सबकी आवाज सुनाई देती है। उन्होंने तंज कसा कि बाकी प्रदेशों के हालात और देश भर में किसानों की हालत, बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था को लोग जानते हैं। राहुल ने कहा, ‘हर धर्म, जाति, आदिवासी, दलित-पिछड़ों को साथ लिए बिना हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था नहीं चलाई जा सकती। जब तक सबको जोड़ोगे नहीं, सबकी आवाज विधानसभा और लोकसभा में सुनाई नहीं देगी, तब तक बेरोजगार और अर्थव्यवस्था का कुछ नहीं किया जा सकता है।
राहुल ने कहा कि अर्थव्यवस्था को किसान, मजदूर, गरीब और आदिवासी चलाते हैं। राहुल ने सरकार पर गलत नीतियों का आरोप लगाते हुए कहा कि पूरा पैसा 10-15 के पास होने से, नोटबंदी, गलत जीएसटी लागू करने से हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था नहीं चल सकती। राहुल ने राज्य सरकार की तारीफ करते हुए कहा, ‘छत्तीसगढ़ में किसानों, आदिवासियों, युवाओ, माताओं-बहनों को साथ लेकर राज्य को आगे ले जाया जा रहा है। हिंसा कम हुई है और अर्थव्यवस्था बाकी प्रदेशों से आगे बढ़ रही है। राहुल ने कहा कि भाई को भाई से लड़ाकर देश का फायदा नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि आदिवासी महोत्सव उसी सोच पर बनाया गया है। यहां अलग-अलग आदिवासियों को जगह मिलेगी, नाचने-गाने का, अपने इतिहास, कल्चर को दिखाने का मौका मिलेगा। राहुल ने कहा, अनेकता में से इसी फेस्टिवल में एकता दिखेगी और दिखेगा कि कैसे अनेकता से एकता बनती है। अलग-अलग लोगों को आदिवासियों को देखकर, सुनकर और कल्चर को समझकर एकता बनेगी। बता दें कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल करेंगे। उद्घाटन के मौके पर अति विशिष्ट अतिथि के रूप में राज्य सभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, उप नेता आनंद शर्मा, राज्यसभा सदस्य अहमद पटेल और मोतीलाल वोरा, पूर्व सांसद के.सी. वेणुगोपाल, प्रियंका गांधी वाड्रा, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष चरण दास महंत समेत कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेता शामिल हुए।
छत्तीसगढ़ में पहली बार राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। महोत्सव ने अब अंतरराष्ट्रीय महोत्सव का रूप ले लिया है। तीन दिवसीय इस नृत्य महोत्सव में देश के 25 राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ ही छह देशों के लगभग 1350 से अधिक प्रतिभागी अपनी जनजातीय कला संस्कृति का प्रदर्शन करेंगे। अधिकारियों ने बताया कि इस महोत्सव में 39 जनजातीय प्रतिभागी दल 4 विभिन्न विधाओं में 43 से अधिक नृत्य शैलियों का प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने बताया कि उद्घाटन के दिन लद्दाख, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, बेलारूस और छत्तीसगढ़ के कलाकारों द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *