Thu. Apr 22nd, 2021

विशेष संवाददाता

नई दिल्ली। पिछले हफ्ते अमेरिकी एयर स्ट्राइक में ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान में तनाव बढ़ने का असर दुनिया भर के बाजारों पर दिखने लगा है. सोमवार को शेयर मार्केट में जोरदार गिरावट आई है. इसके अलावा कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आया है. वहीं सोने का भाव 6 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को चेतावनी दी है कि यदि उसने अपने शीर्ष सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत का बदला लेने के लिए कोई जवाबी कार्रवाई की, तो उस पर अब तक का सबसे जोरदार हमला किया जाएगा.
अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव के कारण निवेशक सुरक्षित निवेश की ओर बढ़ रहे हैं. जिसकी वजह से सोने का भाव बढ़ता जा रहा है. सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोना 41 हजार के पार ट्रेड कर रहा है. एमसीएक्स पर सोने का भाव 2.35 फीसदी की उछाल के साथ 41,000 के पार पहुंच गया है. वहीं ग्लोबल मार्केट में स्पॉट गोल्ड 1.4 फीसदी की तेजी के साथ 1,573.14 प्रति औंस के स्तर पर पहुंच गया. जो 10 अप्रैल 2013 के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है. इसके अलावा चांदी की कीमत में भी काफी उछाल आया है. चांदी 987 रुपये की तेजी के साथ 48514 पर ट्रेड कर रही थी. कारोबार के दौरान यह 48660 के स्तर तक पहुंची थी.
अमेरिका और ईरान में टेंशन बढ़ने का असर भारतीय शेयर बाजार भी पड़ा. अनिश्चितता के माहौल में निवेशक शेयर मार्केट से मुनाफावसूली कर रहे हैं, जिसकी वजह से सेंसेक्स 700 अंकों से ज्यादा टूट गया. वहीं निफ्टी में 200 अंकों की गिरावट आई है. युद्ध की ओर बढ़ रही परिस्थिति की वजह से कच्चे तेल की कीमतों में जोरदार तेजी आई है. एशियाई बाजारों में ब्रेंट क्रूड  का दाम 70 डॉलर प्रति बैरल के पार चला गया है. यह सितंबर के बाद सबसे उच्चतम स्तर है. सऊदी अरब के तेल कुओं पर हमले के बाद देश के सबसे बड़े तेल उत्पादक देश ने तेल का उत्पादन आधा कर दिया था.
ईरान के साथ बढ़ते तनाव से ग्लोबल मार्केट सहमे नजर आ रहे हैं. अमेरिकी बाजारों में भी गिरावट देखने को मिली. आज एशिया बाजारों में कमजोरी देखने को मिल रही है. हफ्ते भर की छुट्टी के बाद निक्केई 2 फीसदी फिसल गया है. एसजीएक्स निफ्टी पर भी दबाव देखने को मिल रहा है. मिडिल ईस्ट में बढ़ते तनाव से अमेरिकी बाजारों में बिकवाली आई थी.डाओ 233 अंक नीचे बंद हुआ था. वहीं डाओ इंट्राडे में 360 अंक तक फिसला था. नैस्डैक और एसएंडपी 500 भी लाल निशान में बंद हुए थे.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *