Mon. Apr 12th, 2021

संवाददाता
नई दिल्ली। अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपनी पत्नी मेलानिया के साथ 24 फरवरी को दो दिवसीय भारत यात्रा पर आ रहे हैं। उनके स्वागत-सत्कार के लिए व्यापक तैयारी की जा रही है। अहमदाबाद में ट्रम्प दोपहर ही गुजारेंगे मगर उनके स्वागत के लिए उन सभी रास्तों पर रंगीन रोशनियों का इंतजाम किया गया है, जहां-जहां से वह गुजरेंगे। आगरा में यमुना के दिन भी फिरे हैं। यमुना के लिए पानी छोड़ा गया है। मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम के आसपास के इलाके के भी भाग्य खुल गए हैं। इस सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में 24 फरवरी को अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के स्वागत में नमस्ते ट्रम्प कार्यक्रम होगा। जिस रास्ते से दिन में राष्ट्रपति ट्रम्प का काफिला गुजरेगा, उस पर अहमदाबाद नगर निगम एक करोड़ से ज्यादा की लागत की डेकोरेशन लाइट्स लगवा रहा है। निगम के विद्युत विभाग के अधिकारियों के अनुसार हम एयरपोर्ट से लेकर मोटेरा स्टेडियम के इंदिरा ब्रिज तक सजावटी लाइटें लगवा रहे हैं।

इसके अलावा स्टेडियम से साबरमती आश्रम, चिमनभाई ब्रिज, सुभाष ब्रिज सर्किल में भी लाइट्स लगवाई गई हैं। गांधी आश्रम में लाइट्स के अलावा दोनों देशों के झंडे भी जगह-जगह लगवाए गए हैं। ये सभी लाइट्स पर एक करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च आ रहा है। अहमदाबाद: विशेष विमान एयरफोर्स वन से सीधे अहमदाबाद एयरपोर्ट पर दोपहर 12 बजे पहुंच जाएंगे। साथ में पत्नी मेलानिया भी होंगीं। एयरपोर्ट से रोडशो करते हुए मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम पहुंचेंगे। स्टेडियम में ‘नमस्ते ट्रम्प‘ कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। यहां से साबरमती के गांधी आश्रम जाएंगे। करीब चार बजे आगरा के लिए उड़ान भरेंगे। 24 फरवरी की शाम ट्रम्प अपनी पत्नी मेलानिया के साथ प्रेम के ऐतिहासिक स्मारक ताजमहल का दीदार करते हुए बिताएंगे। दोनों यहां तस्वीरें भी खिंचवाएंगे।

25 फरवरी को ट्रम्प दंपती का राष्ट्रपति भवन में आधिकारिक स्वागत होगा। महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने राजघाट जाएंगे। फिर पीएम मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता के बाद साझा बयान जारी करेंगे। दोपहर बाद देश के प्रमुख कारोबारियों से मुलाकात करेंगे। शाम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात। रात 10 बजे वह विशेष विमान एयरफोर्स-वन से वापस वाशिंगटन के लिए उड़ान भरेंगे। पत्नी मेलानिया के साथ ट्रम्प 24 फरवरी को दोपहर 12 बजे अहमदाबाद पहुंचेंगे। वह साढ़े तीन घंटे तक इस शहर में रहेंगे, जब सूर्य सिर पर चमक रहा होगा। स्टेडियम कमेटी के चेयरमैन अमूल भट्ट के अनुसार पूरे रास्ते पर लाइट्स लगवा रहे हैं और इसके लिए हमने सुरक्षा अधिकारियों से अनुमति मांगी है। नगर निगम में विपक्ष के नेता दिनेश शर्मा का कहना है कि यह सूरज को दीपक दिखाना है। दिन के दौरे के लिए डेकोरेशन लाइट्स का क्या मतलब। दूसरी ओर अहमदाबाद में बहुत से ऐसे पुल और सड़कें हैं, जहां रात में भी अंधेरा रहता है और निगम ने लाइट्स नहीं लगवाई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *