Mon. Apr 12th, 2021

संवाददाता

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच रक्षा सौदे को लेकर महत्वपूर्ण करार पर हस्ताक्षर हुए। अंतत: लंबी बातचीत और मोल-भाव के बाद ट्रंप ने आज दोनों देशों के बीच 3 अरब डॉलर के रक्षा डील की घोषणा कर दी। इन सबके बीच ट्रंप ने पाकिस्तान को आतंकवाद पर लताड़ लगाई। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की धरती से चलने वाले आतंकवाद पर लगाम लगाने की जरूरत है। ट्रंप और मोदी ने दोनों देशों के बीच मजबूत रिश्तों का भी जिक्र किया। ट्रंप ने कहा कि वह भारत का यह दौरा कभी नहीं भूलेंगे। इन सौदे में अमेरिका से 24 एमएच60 रोमियो हेलिकॉप्टर की 2.6 अरब अमेरिकी डॉलर में खरीद शामिल है। एक अन्य डील छह एएच 64ईअपाचे हेलिकॉप्टर को लेकर है जिसकी कीमत 80 करोड़ डॉलर होगी। ट्रंप ने इसकी जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि 3 अरब डॉलर से ज्यादा के डिफेंस डील से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत होंगे।

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, ‘हमने भारत-अमेरिका पार्टनरशिप के महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की, वह चाहे रक्षा हो या सुरक्षा। हमने एनर्जी स्ट्रैटिजिक पार्टनरशिप, ट्रेड और पिपल-टु-पिपल के बीच संबंधों पर भी चर्चा की। रक्षा क्षेत्र में भारत-अमेरिका के बीच मजबूत होता रिश्ता हमारी साझेदारी का महत्वपूर्ण पक्ष है।’ ट्रंप ने आतंकवाद का जिक्र करते हुए कहा, ‘पीएम मोदी और मैं अपने नागरिकों को कट्टर इस्लामी आतंकवाद से बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अमेरिका पाकिस्तान की धरती से चल रहे आतंकवाद को रोकने के लिए कदम उठा रहा है।’

ट्रंप ने अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में सोमवार को ही इस डील का ऐलान कर दिया था। उन्होंने बताया था कि तीन अरब डॉलर कीमत के अत्याधुनिक सैन्य हेलिकॉप्टर और अन्य उपकरणों के लिए मंगलवार को समझौते किए जाएंगे। ट्रंप ने कहा था, ‘हम अब तक के कुछ श्रेष्ठ उपकरण बनाते हैं: विमान, मिसाइलें, रॉकेट, पोत। हम अब भारत के साथ सौदा कर रहे हैं। इसमें उन्नत वायु रक्षा प्रणाली और सशस्त्र तथा बिना शस्त्र वाले एरियल वीइकल शामिल हैं।’ ट्रंप के साथ उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप, पुत्री इवांका, दामाद जेरेड कुशनर और उनके प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी दो दिवसीय भारत दौरे पर हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच रक्षा और रणनीतिक संबंधों के बारे में कहा था कि अमेरिका भारत को दुनिया के कुछ सर्वश्रेष्ठ और कुछ शानदार सैन्य उपकरण उपलब्ध कराने को लेकर उत्सुक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *