Fri. Apr 23rd, 2021

एजेंसी


इस्लामाबाद । भारतीय वायुसेना के युद्धक विमानों द्वारा बालाकोट में आतंकवादी शिविर पर हमला करने के सालभर बाद पाकिस्तानी सेना ने कहा कि परमाणु शक्ति संपन्न दो देशों के बीच लड़ाई की कोई गुजाइंश नहीं है,लेकिन जब भी देश की सुरक्षा एवं संप्रभुता को चुनौती दी जाएगी पाकिस्तान उसका जवाब देगा। भारतीय वायुसेना ने पिछले वर्ष 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी शिविरों पर हवाई हमले किए थे। दरअसल पुलवामा में 14 फरवरी को आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों को मारने के विरोध में वायुसेना ने यह कार्रवाई की थी। पाकिस्तान ने 27 फरवरी को इस बदले में कार्रवाई कर भारतीय सैन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने का प्रयास किया था। इस बारे में सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिकार ने कहा कि परमाणु हथियारों के दूरगामी प्रभावों के कारण परमाणु शक्ति संपन्न दो देशों के बीच युद्ध की कोई गुजाइंश नहीं है।

इस माह पाकिस्तानी सेना के मीडिया इकाई के प्रमुख का पदभार ग्रहण करने वाले इफ्तिकार ने कहा,हमें अपने दुश्मनों के सभी गुप्त एवं प्रत्यक्ष अभियानों के बारे में मालूम है। भारत जो खेल खेल रहा है, पाकिस्तान का असैन्य एवं सैन्य नेतृत्व उससे पूरी तरह वाकिफ है।उन्होंने कहा,हमारी क्षमता एवं निश्चय की परीक्षा मत लीजिए, हम जवाब दे सकते है। जब भी देश की सुरक्षा एवं संप्रभुता को चुनौती मिलेगी, पाकिस्तान जवाब देगा।’’ पाकिस्तान के एयर चीफ मार्शल मुजाहिद अनवर ने कहा,पाकिस्तानी वायुसेना अन्य सेवाओं के साथ देश पर किसी भी खतरे का मुकाबला करने के लिए पूरी तरह तैयार है।’’बालाकोट हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के संबंध में तनाव आ गया था। जब भारत ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने से संबंधित अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त कर दिया जब दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध और बिगड़ गया। पाकिस्तान ने भारत के साथ राजनयिक संबंध कम कर दिया था और भारतीय उच्चायुक्त को वापस भेज दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *