Mon. Apr 12th, 2021

संवाददाता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अक्सर अपने फैसलों से सबको चौंकाते रहे हैं. 2 मार्च की शाम जब प्रधानमंत्री मोदी ने सोशल मीडिया से दूर होने के संकेत दिए तो ऐसा लगा कि प्रधानमंत्री कुछ बड़ा करने वाले हैं देश के लोग जहां अपने पीएम से सोशल मीडिया पर वापस आने की अपील करने लगे. वहीं विपक्ष इस मुद्दे पर भी हमलावर था, लेकिन मंगलवार 3 मार्च को प्रधानमंत्री के एक ट्वीट ने एक बार फिर सबको चौका दिया.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने टि्वटर एकाउंट पर लिखा, ‘इस महिला दिवस, मैं अपना सोशल मीडिया अकाउंट उन महिलाओं को सौंपूंगा, जिनके जीवन और काम ने हमें प्रेरित किया है. ये उन्हें लाखों को प्रेरित करने के लिए मोटिवेट करेगा.’ प्रधानमंत्री ने आगे लिखा, ‘क्या आप वो महिला हैं या आप ऐसी किसी महिला को जानती हैं जिन्होंने आपको प्रेरित किया हो?

भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ाते पीएम मोदी
पीएम नरेन्द्र मोदी की गिनती देश के उन नेताओं में सबसे आगे होती है, जिनके लिए राष्ट्र के साथ-साथ यहां की संस्कृति भी खास मायने रखती है. इस देश में कहा जाता है कि यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः (जहां स्त्रियों की पूजा होती है वहां देवता निवास करते हैं). महिला दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने अपना टि्वटर हैंडल महिलाओं को सौंपकर हमारे देश की उसी परंपरा को आगे बढ़ाया है जिसमें महिलाओं को सम्मान और अधिकार देने की बात कही गई है. प्रधानमंत्री के इस ट्वीट के बाद देशभर से उनको सुझाव आने लगे हैं.

महिला दिवस के दिन देश को किसी खास चेहरे का इंतजार

प्रधानमंत्री मोदी के पहल की भले ही कुछ लोग राजनीतिक कारणों से आलोचना कर रहे हों, लेकिन पीएम को जानने वाले इस बात को दावे से कह सकते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी कोई काम बिना तैयारी और होमवर्क के नहीं करते. ऐसे में जब 8 मार्च को पीएम मोदी अपना टि्वटर एकाउंट महिलाओं के हवाले करेंगे तो जो महिलाएं सामने आएंगी, उनके आलोचकों को ये समझ में आ जाएगा कि आखिर प्रधानमंत्री ने अपने टि्वटर एकाउंट को 8 मार्च के खास दिन महिलाओं को सौंपने से पहले कितनी तगड़ी रणनीति बनाई थी.

अब तक प्रधानमंत्री ऐसे खास मौकों पर देश के खास लोगों की बजाय आम लोगों को तरजीह देते नजर आए हैं. चाहे वह मन की बात जैसे कार्यक्रम हों, किसी मंच से किसी खास व्यक्ति को सम्मान देना हो, प्रधानमंत्री देश के किसी ऐसे आम चेहरे को खास बनाते हैं जो हमेशा से खास रहने का हकदार रहा हो लेकिन वर्षों के इंतजार और उसकी योग्यता को दरकिनार कर उसे हाशिए पर रखा गया हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *