Sat. Feb 27th, 2021

संवाददाता

सैफई । समाजवादी पार्टी (सपा) में होली के अवसर पर चाचा-भतीजे एकबार फिर एक हो गए हैं। करीब चार साल बाद होली के मौके पर मुलायम सिंह यादव का यह कुनबा एकबार फिर से एक हो गया। अपने पैतृक गांव में अखिलेश यादव ने भी आगे बढ़कर चाचा शिवपाल के पैर छू लिए और समर्थकों ने नारा लगाया- ‘अखिलेश भइया, शिवपाल चाचा जिंदाबाद।’ इस होली के लगभग चार साल पहले ही परिवार के ये चार बड़े नेता अखिलेश यादव, मुलायम सिंह यादव, राम गोपाल यादव और शिवपाल यादव, एक मंच पर आए थे। सैफई में इस बार की होली इसी वजह से खास रही कि परिवार के सब लोग साथ आए।

इससे पहले शिवपाल यादव भी कई बार कह चुके हैं कि वह अखिलेश यादव के साथ गठबंधन करने को तैयार हैं।यह विवाद 2016 में शुरू हुआ था। पार्टी पर एकाधिकार को लेकर शिवपाल और अखिलेश यादव के झगड़े ने खूब किरकिरी कराई। 2017 में अखिलेश यादव को सत्ता भी गंवानी पड़ी। 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले शिवपाल यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के नाम से अपनी पार्टी भी बना ली। शिवपाल की पार्टी ने लोकसभा चुनाव भी लड़ा लेकिन उसे कोई भी सफलता हासिल नहीं हुई। इस साल की होली से पहले पिछले कुछ सालों में सैफई की होली फीकी रही थी। कारण था कि अखिलेश यादव और शिवपाल यादव अलग-अलग होली मनाते आ रहे थे। लेकिन इस साल अखिलेश यादव के घर पर हुए होली मिलन समारोह में शिवपाल यादव भी पहुंचे। शिवपाल को अपने घर आया देख अखिलेश ने मौका नहीं गंवाया और सबके सामने ही उनके पैर छूकर आशीर्वाद लिया। बता दें कि सपा के चाचा- भतीजे का यह झगड़ा जगजाहिर है। चार साल पहले विवाद इतना बढ़ा कि चाचा शिवपाल यादव ने अपनी नई पार्टी बना ली और अखिलेश यादव से किनारा कर लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *