Thu. Apr 22nd, 2021

रोजगारी पर रिपोर्ट लीक हुई-
नीति आयोग ने कहा- सर्वे के आंकड़े प्रामाणिक नहीं
राहुल गांधी का ट्वीट- 2017-18 में 6.5 करोड़ युवा बेरोजगार थे। हाऊ इज द जॉब (यह किस तरह का काम है)

नई दिल्ली। विशेष संवाददाता
गुरुवार को लीक हुई एक रिपोर्ट ने मोदी सरकार की मुसीबतें बढ़ा दी है। हालाकि सरकार ने इस रिपोर्ट को झूठी बताया है।

दरअसल, नेशनल सैम्पल सर्वे ऑफिस (एनएसएसओ) की एक रिपोर्ट लीक हुई है। इसके मुताबिक 2017-18 में बेरोजगारी दर 45 साल के मुकाबले सर्वाधिक रही। एक साल में बेरोजगारी दर 6.1 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई। विवाद बढ़ते देख नीति आयोग ने सफाई दी है कि यह आंकड़े झूठे हैं। आयोग के चेयरमैन राजीव कुमार ने कहा कि अभी रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इसके पहले ही जारी किये गए यह आंकड़े झूठे हैं। रिपोर्ट को लेकर कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो गई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया- सरकार ने हर साल दो करोड़ रोजगार का वादा किया था। हाउ इज द जॉब्स। राहुल ने कहां, क्या यही जॉब हैं।

रिपोर्ट तैयार होते ही जारी करेंगे
नीति आयोग ने कहा कि अभी रिपोर्ट तैयार हो रही है। रिपोर्ट तैयार होते ही सरकार आंकड़े सार्वजनिक करेगी। अब डाटा जुटाने की प्रक्रिया पहले से अलग है।

क्या कहती है लीक रिपोर्ट
वर्ष 2017-18 में ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारी दर 5.3 प्रतिशत और शहरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा 7.8 प्रतिशत रही। इनमें नौजवान बेरोजगार सबसे ज्यादा थे, जिनकी संख्या 13प्रतिशत से 27प्रतिशत थी। 2011-12 में बेरोजगारी दर 2.2प्रतिशत थी। जबकि 1972-73 में यह सबसे ज्यादा थी।

सर्वे पर विवाद, एनएससी चेयरमैन समेत दो का इस्तीफा
बेरोजगारी के आंकड़ों पर विवाद के चलते राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग (एनएससी) के कार्यकारी चेयरमैन और सदस्य ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया था। उनका आरोप है कि आयोग से मंजूरी मिलने के बाद भी सरकार ने सर्वे अटका रखा है। मोहनन का कहना है कि रोजगार पर एनएससी के आंकड़े जारी नहीं करने के विरोध में उन्होंने इस्तीफा दिया। पिछले कुछ समय से उन्हें लग रहा था कि उनकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा था।

राहुल ने मोदी को घेरा
एक अखबार की रिपोर्ट ट्वीट करते हुए राहुल गांधी ने लिखा- हर साल 2 करोड़ रोजगार देने का वादा किया गया था। 5 साल बाद रोजगार से जुड़ी रिपोर्ट लीक हुई, इसमें राष्ट्रीय आपदा का पता चला। बेरोजगारी 45 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई। अकेले 2017-18 में 6.5 करोड़ युवा बेरोजगार। हाउ इज द जॉब्स।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *