Tue. Feb 23rd, 2021

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल प्रवास पर गए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की सुरक्षा में चूक के मामले में ममता बनर्जी सरकार और केंद्र सरकार के बीच तकरार बढ़ती जा रही है। केंद्रीय गृह मंत्रालय (एमएचए) ने बंगाल के डीजीपी और मुख्य सचिव को आज फिर तलब किया था, लेकिन सूत्रों के मुताबिक, दोनों ने ही दिल्ली आने से इनकार कर दिया है। डीजीपी और सीएस को आज शाम 5 बजे तक गृह मंत्रालय दिल्ली में बुलाया गया था। बता दें कि ममता बनर्जी सरकार ने कोरोना का हवाला देकर इन दोनों अधिकारियों के दिल्ली आने में असमर्थता जताई। हालांकि, वे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जुड़ने के लिए तैयार हैं।
मालूम हो कि कल ही एमएचए ने बंगाल सरकार को दूसरी बार पत्र लिखकर तीन आईपीएस अधिकारियों को कार्यमुक्त कर दिल्ली भेजने को कहा था, जिस पर कोई जवाब नहीं मिला था। ऐसे में कहा जा रहा है कि यदि राज्य फिर से अधिकारियों को कार्यमुक्त करने से इनकार करता है, तो कानूनी राय ली जाएगी। इसके लिए आईपीएस कैडर नियमों, 1954 के नियम 6 (1) का हवाला दिया गया है। दरअसल गृह मंत्रालय ने जेपी नड्डा की 9 और 10 दिसंबर को पश्चिम बंगाल के डायमंड हार्बर में हुए रोड शो के दौरान पथराव और हमले में सुरक्षा चूक को लेकर पश्चिम बंगाल डीजीपी और सीएस से जवाब-तलब किया था। बाद में उनको दिल्ली बुलाया गया, लेकिन राज्य सरकार ने उनको भेजने से इनकार कर दिया। फिर जब 3 आईपीएस अधिकारियों को दिल्ली बुलाया तो फिर से राज्य सरकार ने इनकार कर दिया। ऐसे में इस मसले पर राज्य और केंद्र के बीच टकराव बढ़ने के आसार दिखाई दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *