Sat. Feb 27th, 2021


पाकिस्तान सरकार और आईएसएई के ऊपर भी संदेह जताया जा रहा


पेशावर। वैश्विक मंचों पर इमरान सरकार और सेना के अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाने वाली बलूचिस्तान की कार्यकर्ता व तथाकथित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बहन करीमा बलोच की कनाडा में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई है। करीमा रविवार को लापता हो गई थीं और उनकी तलाश की जा रही थी। करीमा का शव टोरंटो से बरामद किया गया है। करीमा की मौत की वजह स्पष्ट नहीं है, लेकिन इसके पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ होने की बातें सामने आ रही हैं। करीमा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भाई मनाकर 2016 में रक्षाबंधन पर उन्होंने पीएम मोदी के लिए राखी भेजी थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक करीमा बलोच रविवार शाम को लापता हो गई थीं और तभी से पुलिस उन्हें तलाश कर रही थी। उन्हें शाम तीन बजे के आसपास अंतिम बार देखा गया था,इसके बाद अनजान शख्स के साथ उन्हें जाते देखा गया था। करीमा के परिवार ने उनका शव बरामद होने की पुष्टि की है। करीमा बलोच को पाकिस्तानी सरकार और सेना के खिलाफ सबसे मुखर आवाज माना जाता था। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में भी बलूचिस्तान में पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की थी। संदिग्ध परिस्थितियों में हुई उनकी मौत को लेकर पाकिस्तान सरकार और आईएसएई के ऊपर भी संदेह जताया जा रहा है।
कनाडाई शरणार्थी रहीं करीमा बलूच को 2016 में दुनिया की 100 सबसे प्रेरणादायक और प्रभावशाली महिलाओं में शामिल किया गया था। बीबीसी ने 2016 में करीमा बलोच को दुनिया की 100 सबसे प्रेरणादायक और प्रभावशाली महिलाओं में से एक के रूप में नामित किया गया था। करीमा बलूच बलूचिस्तान की सबसे प्रसिद्ध हस्तियों में से एक थीं। उन्होंने स्विट्जरलैंड में संयुक्त राष्ट्र के सत्र में बलूचिस्तान का मुद्दा उठाया था। मई 2019 में साक्षात्कार में उन्होंने पाकिस्तान पर हमला करते हुए कहा था कि वहां बलूचिस्तान के प्राकृतिक संसाधन छीनकर वहां के लोगों को प्रताड़ित कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *