Thu. Jun 24th, 2021

नई दिल्ली । मारुति सुजुकी की स्विफ्ट 2020 में देश की सबसे अधिक बिकने वाली कार रही है। स्विफ्ट ने मारुति की ही ऑल्टो के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। बीते 15 सालों में इससे पहले यह कारनामा स्विफ्ट के ही सेडान मॉडल डिजायर ने 2018 में किया था। लेकिन 2020 में डीजल मॉडल का विकल्प नहीं होने से सबसे बड़ा झटका डिजायर की बिक्री को ही लगा।
सन 2020 में कोरोना वायरस महामारी के चलते टॉप-10 में शामिल लगभग सभी कारों की सालाना बिक्री में गिरावट आई है। सिवाय किया मोटर्स की सेल्टोस के, क्योंकि इस कार को अगस्त 2019 में ही भारतीय बाजार में उतारा गया। साल के दौरान ऑल्टो की बिक्री 26 प्रतिशत गिरकर 1,54,076 इकाई रही। वहीं डिजायर और ब्रेजा की बिक्री में क्रमश: 37 प्रतिशत और 34 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। इसकी तुलना में स्विफ्ट और मारुति की प्रीमियम हैचबैक बलेनो की बिक्री में सांकेतिक 16.2 प्रतिशत की गिरावट रही।
इस वजह से टॉप-10 में शामिल कारों में स्विफ्ट पहले नंबर, ऑल्टो दूसरे नंबर और बलेनो तीसरे नंबर पर रही। ऑल्टो की बिक्री को बड़ा झटका एस-प्रेसो से प्रतिस्पर्धा के चलते भी लगा है। 2020 में एस-प्रेसो की 67,690 कारें बिकीं। मारुति सुजुकी की प्रतिद्वंद्वी कंपनी हुंडई की क्रेटा 2020 में सबसे अधिक बिकने वाली एसयूवी कार रही है। हुंडई ने इस दौरान 97,000 कारें बेचीं। टॉप-10 की सूची में उसने सातवां स्थान हासिल किया।
इसी तरह नई कंपनी किया मोटर्स की सेल्टोस देश की आठवीं सबसे ज्यादा बिकने वाली कार रही। क्रेटा के मुकाबले इसकी बिक्री मात्र 57 इकाई कम रही। डिजायर के बाद हुंडई की एलीट आई20 कार की बिक्री को भी सबसे ज्यादा झटका लगा। मारुति के डीजल कारों की बिक्री नहीं करने के निर्णय का असर डिजायर के साथ-साथ ब्रेजा की बिक्री पर भी पड़ा है। बीते कुछ सालों में ब्रेजा ने डीजल कारों के बाजार में अपनी अहम छाप बनाई है। वह इस साल टॉप-10 की सूची में चार अंक गिरकर 10वें स्थान पर रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *