Sat. Feb 27th, 2021

नए संसद भवन के निर्माण के लिए यहां लगी महात्मा गांधी की प्रतिमा को शिफ्ट कर दिया गया। अभी तक ये मूर्ति संसद परिसर में गेट नंबर एक के पास लगी हुई थी। इसे अब यहां से हटाकर गेट नंबर 3 के पास शिफ्ट कर दिया गया है।
दरअसल मकर संक्रांति के बाद शुभ मुहूर्त में 15 जनवरी के बाद से नए संसद भवन का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। केंद्रीय लोकनिर्माण विभाग ने टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड से 15 जनवरी से नई संसद भवन का निर्माण कार्य शुरू करने को कहा था। नए संसद भवन का निर्माण कार्य शुक्रवार से शुरू हो गया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगभग एक महीने पहले 10 दिसंबर को केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी थी। नया संसद भवन त्रिकोणीय आकार का होगा और इसके निर्माण को 2022 में आजादी के 75 वीं वर्षगांठ तक पूरा कर लिया जाएगा। सरकार ने 2022 में संसद के मानसून सत्र को नए भवन में आयोजित करने की योजना बनाई है।
सूत्रों का कहना है कि टाटा प्रोजेक्ट्स ने अपने साजोसामान को निर्माणस्थल पर पहुंचाना पहले ही शुरू कर दिया था ताकि केंद्र सरकार के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट को जल्द शुरू किया जा सके। विगत सोमवार को ही नए संसद भवन के निर्माण के लिए 14 सदस्यीय विरासत संरक्षण समिति ने अपनी मंजूरी दे दी थी। 971 करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट को देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पूरा किया जाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *